कोरोना लॉक डाउन ; होटल व्यवसायी देंगे हर संभव मदद


बीकानेर। बीकानेर होटल व्यवसयी एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने एक स्वर में जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम को विश्वास दिलाया कि कोरोना वायरस संकट के दौरान जिला प्रशासन होटल व्यवसायियों को जो भी जिम्मेदारी देगा उसे  पूर्ण निष्ठा, ईमानदारी के साथ निभाएंगे। पदाधिकारियों ने कहा कि संकट के इस समय में व्यवसायी प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़े रहेंगे। सरकार और प्रशासन का जो भी आदेश मिलेगा उसकी पालना की जाएगी। होटल व्यावसायियों ने कहा कि हम सबका यह नैतिक दायित्व है कि ऐसे में हम से जो भी बन पड़ेगा उसे करेंगें। होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने शनिवार को नगर विकास न्यास कार्यालय के सभागार में जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम को यह विश्वास दिलाया।उन्होंने कहा कि आपदा के समय  चिकित्सकों या पैरामेडिकल स्टाफ को होटल में ठहराने की व्यवस्था हो अथवा जिला प्रशासन द्वारा गरीब और जरूरतमंद व्यक्तियों को फूड पैकेट वितरण करवाने की बात, होटल व्यवसायी प्रत्येक काम में प्रशासन के साथ हैं । गौतम ने कहा कि वर्तमान में ऐसी कोई जरूरत नहीं है परंतु आप यह मानसिकता बना लें कि अगर जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए भोजन की आवश्यकता पड़े तो आप अपने स्तर पर किचन प्रारंभ कर भोजन के पैकेट उपलब्ध करवा दें। यह थे उपस्थित- वासुदेव सिंह, मोहन सिंह, आदिल खान, मणिराज सिंह, अशोक कुमार शर्मा,  प्रधुम्न सिंह, विष्णु भोजक, डाॅ. प्रकाश ओझा, विनोद गोयल, पियुष सेठी,  राहुल सिंह, अशोक कुमार, जय प्रकाश, देव किसन, मौ. अयुब, राकेश चलाना, अब्दुल सोढा, गजानन्द पुरोहित, राजेश चांडक, मकबूल हसन, अजय मिश्रा, डी पी पच्चिसिया, सावन पारिक, गोपाल अग्रवाल, राजेश गोयल  के साथ अन्य होटल व्यावसायी तथा अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन ए एच गौरी, न्याय सचिव मेघराज सिंह मीणा, भवरू खां आदि उपस्थित थे।


Popular posts
जिन शासन स्थापना दिवस 4 मई को, 'एक सामायिक शासन के नाम' विषयक कार्यक्रम होगा
Image
श्री महाकालेश्‍वर मंदिर के प्रशासनिक कार्यालय एवं वैदिक शोध संस्‍थान में हुआ झंडारोहण
Image
तेरापंथ महिला मंडल गंगाशहर के 'हमारा समाज, हमारा दायित्व' कार्यक्रम में रंगोली व संगोष्ठी से दिया जागरुकता का संदेश
Image
लोकसंत युगप्रभावकाचार्य श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वर जी म.सा.'मधुकर' की तृतीय वार्षिक पुण्यतिथि विशेष..
Image
एसडीएम को जिम्मेदार ठहराने के बजाए मजदूरों को गंतव्य तक पहुंचाया जाए, जब इतनी सहानुभूति है तो फिर मजदूर परिवार सहित सड़क पर पैदल क्यों चल रहा है?