जागरूक बालिका , समृद्ध प्रदेश : डॉ प्रीति


                         बीकानेर । बीकानेर के गाँव बेनिसर में श्री दिव्य आयु हैल्थ ट्रस्ट व आयु मंत्रा आयुर्वेद  द्वारा राष्ट्रीय बालिका दिवस पर बालिकाओ के स्वास्थ्य , शिक्षा , सुरक्षा, सम्मान और स्वच्छ्ता के जागरूकता के लिए  कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ रा.उ.मा.विद्यालय में सरस्वती पूजन स्थानीय सरपंच पार्वती गोदारा , जिज्ञासु व गोपाल व सारस्वती वंदना बालिकाओ  द्वारा की गई। उक्त कार्यक्रम में बोलते हुए आयु मंत्रा आयुर्वेद की वरिस्ठ आयुर्वेदाचार्य व  ट्रस्ट अद्यक्षा डॉ प्रीति गुप्ता ने कहा कि लड़कियों के उज्वल भविष्य के लिए उन्हें शिक्षित व आत्मनिर्भर बनाना अतिआवश्यक है ।लड़कियों के प्रति भेदभाव के खिलाफ अभियान व साथ ही बेटियों के अधिकारों के प्रति लोगो को जागरूक करने की अति आवश्यकता है। इसलिए ट्रस्ट द्वारा समय समय पर ऐसे कार्यक्रम आयोजित किये जाते रहते है। शाला प्रधानाध्यापिका उर्मिला पुनिया ने अपने सबोधन में ट्रस्ट परिवार को साधुवाद देते हुए कहा इस तरह के कार्यक्रम बालिकाओ में उत्साह का संचार करते है और शिक्षा के प्रति रुचि  और उनका आत्मविश्वास बढ़ाते हैं। कार्यक्रम में ट्रस्ट परिवार द्वारा डॉ प्रीति, दिनेश राठी, रजनी कालरा, मोहिनी गुप्ता शैला गुप्ता द्वारा मौजूद लगभग 298 बच्चों को गरम स्वेटर व गरम टोपी का वितरण किया गया। साथ ही आयु मंत्रा आयुर्वेद द्वारा 75 बच्चियों को चवनप्राश का वितरण किया गया व डॉ गुप्ता द्वारा उपस्थित बालिकाओ व महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया व उपस्तिथ जानो को स्वाइन फ्लू निरोधी काढ़ा पिलाया व उसकी उपयोगिता बताई।  कार्यक्रम का संचालन किशन भाटी ने किया। इस आयोजन में गोरु राम,  रोहिणी जालवाल, कमलेश राजवी, हरीश आदि ने सक्रिय भूमिका निभाई।



Popular posts
जिन शासन स्थापना दिवस 4 मई को, 'एक सामायिक शासन के नाम' विषयक कार्यक्रम होगा
Image
श्री महाकालेश्‍वर मंदिर के प्रशासनिक कार्यालय एवं वैदिक शोध संस्‍थान में हुआ झंडारोहण
Image
तेरापंथ महिला मंडल गंगाशहर के 'हमारा समाज, हमारा दायित्व' कार्यक्रम में रंगोली व संगोष्ठी से दिया जागरुकता का संदेश
Image
लोकसंत युगप्रभावकाचार्य श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वर जी म.सा.'मधुकर' की तृतीय वार्षिक पुण्यतिथि विशेष..
Image
एसडीएम को जिम्मेदार ठहराने के बजाए मजदूरों को गंतव्य तक पहुंचाया जाए, जब इतनी सहानुभूति है तो फिर मजदूर परिवार सहित सड़क पर पैदल क्यों चल रहा है?