कुशल प्रबंधन ; हजारों मजदूर वर्ग के लोग राजस्थान से मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों गांवों में पहुंचे


न्यूजडेस्क। (शौकीन जैन)। राजस्थान से आए 5000 मजदूरों को मध्य प्रदेश के विभिन्न जिलों के लिए 123  वाहनों से उनके गृह जिलों के लिए रवाना किया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार राजस्थान में फंसे मजदूरों को मध्य प्रदेश के रतलाम, धार, मंदसौर, उज्जैन, अलीराजपुर व झाबुआ जिले के निवासी राजस्थान में फंसे मजदूरों को पहुंचाया गया उनके घर तक। मध्य प्रदेश से राजस्थान जाने वाले सोलह सौ मजदूरों को भी 39 वाहनों से रवाना किया गया उनके घर। नयागांव चेकपोस्ट पर कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे और पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार राय ने मजदूरों को उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था का जायजा भी लिया। जिला प्रशासन के 150 से अधिक अधिकारियों की टीम की गई है नया गांव बॉर्डर पर तैनात। राजस्थान से बुधवार को भी आएंगे 1000 लगभग मजदूर और गुरुवार तक आएंगे 5000 मजदूर। प्रदेश के नीमच जिले की सीमा में प्रवेश के समय सभी मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया व उनकी जानकारी संकलित की गई ।उनके भोजन पेयजल की व्यवस्था कर उन्हें मास्क भी वितरित किए गए। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मजदूरों को वाहनों से उनके गृह जिले के लिए रवाना किया गया। कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे ने अपील की है कि मध्य प्रदेश के उक्त छह जिलों में यदि कोई ऐसा मजदूर है जो राजस्थान में अपने घर जाना चाहता है तो वह संबंधित जिले के कलेक्टर से संपर्क कर नया गांव बॉर्डर पर  पहुंचे, जिला प्रशासन नीमच द्वारा  आवश्यक प्रोटोकॉल का पालन करते हुए  इन मजदूरों को उनके घर पहुंचने की व्यवस्था नयागांव बॉर्डर से की जाएगी।



Popular posts
जिन शासन स्थापना दिवस 4 मई को, 'एक सामायिक शासन के नाम' विषयक कार्यक्रम होगा
Image
श्री महाकालेश्‍वर मंदिर के प्रशासनिक कार्यालय एवं वैदिक शोध संस्‍थान में हुआ झंडारोहण
Image
तेरापंथ महिला मंडल गंगाशहर के 'हमारा समाज, हमारा दायित्व' कार्यक्रम में रंगोली व संगोष्ठी से दिया जागरुकता का संदेश
Image
लोकसंत युगप्रभावकाचार्य श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वर जी म.सा.'मधुकर' की तृतीय वार्षिक पुण्यतिथि विशेष..
Image
एसडीएम को जिम्मेदार ठहराने के बजाए मजदूरों को गंतव्य तक पहुंचाया जाए, जब इतनी सहानुभूति है तो फिर मजदूर परिवार सहित सड़क पर पैदल क्यों चल रहा है?