पुर्णाहुति के साथ विफा का अंतराष्ट्रीय स्तर का आरोग्य सिद्धि अनुष्ठान सम्पन्न



मुम्बई। ब्राम्हण समाज के वैश्विक संगठन विप्र फाउंडेशन (विफा) का कोरोना से देश को मुक्ति के लिए चार दिवसीय दुर्गा सप्तशती के महामारी नाशक मंत्र के एक करोड़ जाप का विशेष अनुष्ठान मंगलवार को मंगलमय पूर्णाहुति के साथ ही सम्पन्न हो गया। विप्र फाउंडेशन के राष्ट्रीय महामंत्री डॉ सीए सुनील शर्मा ने मुम्बई से बताया कि इस आयोजन पर देश भर में सवा दो करोड़ से अधिक मंत्रों का जाप हुआ। राष्ट्रीय अध्यक्ष महावीर प्रसाद शर्मा और मुख्य समन्वयक किशन जोशी ने महाराष्ट्र अध्यक्ष सीए श्री रामवतार शर्मा एवम प्रभारियों को और विशेष कर मुम्बई के विकास बढाडरा, आशीष दाधीच, मनोज शर्मा एवम रूपेश माटोलिया, मीरा भायंदर से तरुण ढंड एवम दयाराम पालीवाल, ठाणे से महावीर प्रसाद तावनिया, भिवंडी से पवन सोती, औरंगाबाद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सीए आर बी शर्मा एवम प्रभारी सुरेश पारीक, संतोष शर्मा, कोल्हापुर के उमेश शर्मा एवम इचलकरंजी के नरोत्तम लाटा आदि के सहयोग से महाराष्ट्र के 15 लाख मंत्र जप एवं 1200 निराश्रितों के लिए मासिक राशन भोजन की भूरी-भूरी प्रशंशा करते हुए बधाई दी।आद्य शंकराचार्य की जन्म जयंती पर सीकर के रैवासाधाम में राघवाचार्यजी महाराज के आचार्यत्व में  हुए पुर्णाहुति यज्ञ में विफा के  राष्ट्रीय सचिव विष्णु पारीक  मौजूद रहे। विफा के संस्थापक-संयोजक सुशील ओझा ने कोलकाता से बताया कि परशुराम जयंती से आरोग्य सिद्धि अनुष्ठान का शुभारंभ किया था और लॉक डाउन के कारण लोग अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपने घरों में बैठ कर ही मंत्रोजाप का रहे थे। मंत्र जाप के साथ एक लाख थाली का संकल्प भी लिया गया था उसके मुकाबले ग्यारह लाख से अधिक  भोजन थाली अथवा सूखा राशन जरूरतमंदों तक पहुंचाने की योजना बनाई जा चुकी है।




Popular posts
जिन शासन स्थापना दिवस 4 मई को, 'एक सामायिक शासन के नाम' विषयक कार्यक्रम होगा
Image
श्री महाकालेश्‍वर मंदिर के प्रशासनिक कार्यालय एवं वैदिक शोध संस्‍थान में हुआ झंडारोहण
Image
तेरापंथ महिला मंडल गंगाशहर के 'हमारा समाज, हमारा दायित्व' कार्यक्रम में रंगोली व संगोष्ठी से दिया जागरुकता का संदेश
Image
लोकसंत युगप्रभावकाचार्य श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वर जी म.सा.'मधुकर' की तृतीय वार्षिक पुण्यतिथि विशेष..
Image
एसडीएम को जिम्मेदार ठहराने के बजाए मजदूरों को गंतव्य तक पहुंचाया जाए, जब इतनी सहानुभूति है तो फिर मजदूर परिवार सहित सड़क पर पैदल क्यों चल रहा है?